Hasbi Rabbi Jallallah Naat Lyrics Hindi

Hasbi Rabbi Jallallah Naat Lyrics Hindi


Hasbi Rabbi Jallallah Mafi Qalbi Ghairullah
Noor-e-Muhammad sallalla laa ilaha illallah.....

Tere Sadqe Me Aaqa Sare Jahan ko Deen Mila,
Bedeeno ne Kalma Padha Laailaha illallah ||

Hasbi Rabbi Jallallah Mafi Qalbi Ghairullah
Noor-e-Muhammad sallalla laa ilaha illallah.....

Simt-E-Nabi Abu Jehal Gaya, Aaqa Se Usne Ye Kaha,
Gar ho Nabi Batlaao Zara, Meri Mutthi Me Hai Kya...

Simt-E-Nabi Abu Jehal Gaya, Aaqa Se Usne Ye Kaha,
Gar ho Nabi Batlaao Zara, Meri Mutthi Me Hai Kya...

Aaqa ka farman hua aur fazl-E-rahmaan hua,
Mutthi se patthar bola laailaha illallah....

Hasbi Rabbi Jallallah Mafi Qalbi Ghairullah
Noor-e-Muhammad sallalla laa ilaha illallah.....

Wo jo Bilal-E-Habshi hai, Sarwar-E-deen ka Pyara hai
Duniya ke har aashiq ki aakhon ka wo tara hai

Wo jo Bilal-E-Habshi hai, Sarwar-E-deen ka Pyara hai
Duniya ke har aashiq ki aakhon ka wo tara hai

Zulm hue kitne uspar, Seene par rakha patthar..
Lab pe phir bhi jaari tha laailaha illallah....

Hasbi Rabbi Jallallah Mafi Qalbi Ghairullah
Noor-e-Muhammad sallalla laa ilaha illallah.....

Apni bahan se bole Umar (ra) ye to bata kya karti thi-2
Mere aane se pahle kya chupke chupke padhti thi

Bahan ne jab quran padha, sunke kalam-e-paak khuda
Dil ye umar (r.a) ka bol utha laailaha illallah....

Hasbi Rabbi Jallallah Mafi Qalbi Ghairullah
Noor-e-Muhammad sallalla laa ilaha illallah.....

Duniya ke insan sabhi shirk-o-bidat karte the
Rab ke the bande phir bhi but ki ibadat karte the-2

Butkhane hain tharraye mere nabi jab aaye..
Kahne lagi makhlooq-e-khuda laailaha illallah...

Hasbi Rabbi Jallallah Mafi Qalbi Ghairullah
Noor-e-Muhammad sallalla laa ilaha illallah.....

Gulshan Kalma padte hain Chidiyan Kalma padti hai
Duniya ki Makhluk sabhi Zikr Khuda ka karti hai-2

Kehte sabhi hain Jinno Bashar,, Kehta Shajar hai Kehta Hajar,,
Kehta hai Patta Patta Lailaha Illalallah....

Hasbi Rabbi Jallallah Mafi Qalbi Ghairullah
Noor-e-Muhammad sallalla laa ilaha illallah.....

SubhanAllah......

हस्बी रब्बी जल्ललाह Naat Lyrics in Hindi


हस्बी रब्बी जल्ललाह , माफ़ी क़ल्बी गैरुल्लाह,,
नूर ए मोहम्मद सल्ललाह, ला इलाहा इल्ललाह

तेरे सदक़े में आक़ा सारे जहाँ को दीन मिला,

बेदीनों ने कलमा पढ़ा, ला इलाहा इल्लल्लाह ||

हस्बी रब्बी जल्ललाह , माफ़ी क़ल्बी गैरुल्लाह,,
नूर ए मोहम्मद सल्ललाह, ला इलाहा इल्ललाह


सिम्त-ए-नबी अबू जेहेल गया, आक़ा से उसने ये कहा,

ग़र हो नबी बतलाओ ज़रा, मेरी मुट्ठी में है क्या...- 2


आक़ा का फरमान हुआ और फ़ज़ल-ए-रहमान हुआ,

मुट्ठी से पत्थर बोला ला इलाहा इल्लल्लाह ....


हस्बी रब्बी जल्ललाह , माफ़ी क़ल्बी गैरुल्लाह,,
नूर ए मोहम्मद सल्ललाह, ला इलाहा इल्ललाह


वो जो बिलाल-ए-हब्शी है, सर्वर-ए-दीन का प्यारा है,

दुनिया के हर आशिक़ की आखों का वो तारा है - 2


ज़ुल्म हुए कितने उसपर, सीने पर रखा पत्थर..

लब पे फिर भी जारी था ला इलाहा इल्ललाह

हस्बी रब्बी जल्ललाह , माफ़ी क़ल्बी गैरुल्लाह,,
नूर ए मोहम्मद सल्ललाह, ला इलाहा इल्ललाह


अपनी बहन से बोले उमर  (ra) ये तो बता क्या करती थी-2

मेरे आने से पहले क्या चुपके चुपके पढ़ती थी



बहन ने जब कुर-आन पढ़ा, सुनके कलाम -ए -पाक ए  खुदा

दिल ये उमर  (r.a) का बोल पड़ा लाइलाहा इल्लल्लाह ....

हस्बी रब्बी जल्ललाह , माफ़ी क़ल्बी गैरुल्लाह,,
नूर ए मोहम्मद सल्ललाह, ला इलाहा इल्ललाह


दुनिया के इंसान सभी शिर्क-ओ -बिदअत करते थे,

रब के थे बन्दे फिर भी बुत  की इबादत करते थे-2


बुतखाने हैं थर्राये,, मेरे नबी, जब आये..

कहने लगी मख्लूक़-ए-खुदा लाइलाहा इल्लल्लाह...


हस्बी रब्बी जल्ललाह , माफ़ी क़ल्बी गैरुल्लाह,,
नूर ए मोहम्मद सल्ललाह, ला इलाहा इल्ललाह


गुलशन कलमा पढ़ते हैं चिड़िया कलमा पड़ती हैं,,,

दुनिया की मखलूक सभी ज़िक्र खुदा का करती है-2


कहते सभी हैं जिन्नो बशर,, कहता शजर है कहता हजर,,

कहता है पत्ता पत्ता लाइलाहा इल्ललल्लाह....

हस्बी रब्बी जल्ललाह , माफ़ी क़ल्बी गैरुल्लाह,,
नूर ए मोहम्मद सल्ललाह, ला इलाहा इल्ललाह ....